सीमा के ससुर ने मेरी चुदाई की

में अब तक आपने मेरी सीमासीता के ससुर से मेरी सैटिंग जम गई थी.

अब आगे:

दूसरे दिन सीता सुबह काम से बाहर चली गई. उस दिन 1 बजे से 7 बजे तक मैं भी अकेली थी. पति सुबह ही ऑफिस निकल गए थे.

सीता के जाते ही उसके ससुर जी मेरे पास आ गए. मैंने दरवाजा खुला ही रखा था. मुझे पता था कि सीता के जाते ही राजेन्द्र जी मेरे पास आ जाएंगे.

यही हुआ … वो सीता के जाते ही मेरे घर आ गए. उन्होंने दरवाजा बंद कर दिया.
मैं किचन में थी, वो वहीं आ गए और मुझे पीछे से पकड़ कर किस करने लगे.
तब मैं बोली- अंकल, हॉल में चलो, मैं वहीं आती हूँ.

ससुर जी हॉल में आ गए.

राजेन्द्र अंकल के जाने के बाद मैं भी हॉल में आकर उनके बाजू में बैठ गई. ससुर जी मुझे किस करने लगे.
मैं उनसे पूछने लगी- अंकल, आपको मेरे बारे में इतना गंदा विचार कैसे आ गया?
वे बोले- जब तुम हिला हिला कर मुझे अपना पिछवाड़ा देखाओगी, तो मैं क्या … कोई भी तुम्हारे पीछे पड़ जाएगा.



फिर कुछ देर हम दोनों ने बातें की. तभी सीता का फोन आ गया. वो बोली- मैं तुम्हारे घर आ रही हूँ, ससुर जी कहां हैं.
मैं फोन पर जोर से बोली- हां जी, वो मेरे घर पर आए हुए हैं.

उसने फोन काट दिया.

राजेन्द्र ने मेरी तरफ देखा तो मैंने बताया कि सीता का फोन था और वो इधर ही आ रही है. वो आपके बारे में पूछ रही थी.
वे ठीक होकर मुझे अलग बैठ गए.

कुछ दिन ऐसे ही चला.

फिर एक दिन पति को काम से बाहर जाना था तो पति ने मुझे फोन किया और बोले- मेरा बैग तैयार रखना, मुझे शाम को चेन्नई जाना है, मुझे कम से कम 15 दिन लग जाएंगे.
मैंने ओके कह कर फोन काटा और पति का सामान बैग में रखने लगी.

तभी सीता आ गई और बैग लगाते देख कर बोली- लगता है, कहीं जा रही हो.
मैं बोली- नहीं यार … पति काम से बाहर जा रहे हैं.
सीता बोली- वाओ यार … कब जा रहे हैं?
मैं बोली- आज रात में.
वो बोली- ओके …

कुछ देर हम दोनों ने बातें कीं और वो चली गई.

रात में पति आए, खाना खाकर थोड़ा आराम किया और 11 बजे वे निकल गए. उस रात मैं अकेली सोई.

दूसरे दिन सीता दोपहर में घर आई और मुझसे पूछने लगी कि पति कब गए?
मैं बोली- रात में 11 बजे.
तब वो बोली- आज रात मैं ससुर जी को भेजती हूँ.
मैं मुस्कुरा दी. मैंने बोला- अरे यार तेरे पति क्या सोचेंगे?
तो वो बोली- कुछ नहीं, मैं बात कर लूंगी … और आज रात का खाना तू मेरे घर पर ही खाना.
मैं बोली- ओके, पर ये तो बता कि इसमें तेरा क्या फायदा है?
वो बोली- वो सब मैं बाद में बताऊंगी.

वो मुझे आंख मारकर चली गई.

रात में मैं उसके घर पर गई. मैंने आज फिर से वही रेड साड़ी और ब्लाउज पहना था.
सीता के ससुर राजेन्द्र जी ने मुझे देख कर कहा- आओ कैसी हो?
मैं धीमे से बोली- मस्त हूँ.
तभी सीता वहां आई और मुझसे बोली- चलो खाना खाते हैं.

हम सब खाना खाने बैठ गए. खाना खाते हुए ही सीता बोली- बाबूजी, क्या आप आज सोने के लिए अनिषा के घर पर जा सकते हो? उसे अकेले सोने में डर लगता है.

सीता के ससुर राजेन्द्र जी तुरंत मान गए. खाना होते ही मैं बर्तन समेटने में सीता का थोड़ा हाथ बंटाने लगी.

सीता बोली- यार छोड़ ये सब, जा आज मजे कर.
मैं हंस कर बोली- ओके.

मैं अपने घर पर आ गई. राजेन्द्र जी भी मेरे पीछे आ गए. मैंने दरवाजा बंद किया और बेडरूम में आ गई.
वहां जाते ही अंकल जी ने मुझे बांहों में भर लिया और किस करने लगे. साथ ही वे मेरे मम्मों को दबाने लगे.

मैं बोली- साड़ी तो चेंज कर लेने दो.
तो बोले- नहीं … चेंज क्या करना … अभी उतर जाएगी.

वे मुझे बेड पर लेटा कर किस करने लगे. उन्होंने धीरे धीरे मेरा ब्लाउज उतार दिया. मेरी साड़ी कब उतरी, मुझे पता ही नहीं चला. मैंने भी उनकी शर्ट उतार दी. मैंने उन्हें अपने नीचे लिटा कर किस करने लगी. उनका बरमूडा उतारा, तो उनका 7.5 का काला लंड सोया हुआ था.

मैं अंकल के लंड को हाथ में लेकर चूसने लगी.

वो भी दो मिनट में रेडी हो गए. फिर वो मेरी चुत में उंगली करने लगे. चूत में पराए मर्द की उंगली जाते ही मेरी सिसकारी निकलने लगी. मैं ‘उहु … अहहा..’ करने लगी.

सीता के ससुर राजेन्द्र जी ने मुझे लिटा कर किस किया और मेरे मम्मों को दबाते हुए बोले- तुम बड़ी मस्त चीज हो मेरी जान … सारा मोहल्ला तुम्हें चोदना चाहता है.

वे मेरे ऊपर चढ़ गए. उनका लंड जो सोया हुआ 7.5 इंच का था, वो अब हाथ भर का लगने लगा था. अंकल ने अपना मूसल लंड हिलाते हुए मेरी चुत में सैट कर दिया. मेरी तरफ आंख मारते हुए धीरे धीरे अपने लंड को मेरी चूत के अन्दर डालने लगे. मैं भी अंकल का साथ दे रही थी. उनका आधा लंड अन्दर जाते ही मेरी आंखें फैलने लगीं. इतना बड़ा लंड मैंने आज तक नहीं लिया था.


तभी अंकल ने एक तेज धक्का मार दिया और अपना पूरा लंड मेरी चुत में पेल दिया. मेरी चीख निकल गई. पर अंकल ने मेरी चीख पर ध्यान न देते हुए मेरी चुदाई ज़ोर ज़ोर से शुरू कर दी. मेरी ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ की आवाजें बेडरूम में गूंजने लगीं.

करीब पांच मिनट बाद मेरी चूत ने अंकल के लंड को अपने अन्दर सैट कर लिया और मुझे अंकल से चुदने में मजा आने लगा.

करीब दस मिनट की ताबड़तोड़ चुदाई के दौरान मैं दो बार झड़ गई. फिर अंकल ने भी मेरी चूत में ही अपना वीर्य छोड़ दिया.

इस तरह मेरी गैर मर्द से पहली चुदाई हुई.

फिर हम दोनों नंगे ही एक दूसरे से चिपक कर बात करने लगे.

मैंने कहा- कैसी लगी मेरी चुत?
तो वो बोले- मस्त … बड़ी टाईट लग रही थी. तेरा पति तुमको ढंग से नहीं चोदता है क्या?
मैं बोली- हां.
फिर अंकल बोले- मुझे औरतों की गांड पर चांटा मारते हुए चोदना पसंद है.
मैं बोली- जैसे आपको अच्छा लगे, आप मुझे चोद लो.

फिर कुछ देर बाद वो 72 में हो गए. मुझे जांघों में किस करते हुए मेरी चुत चाटने लगे और अपना लंड अंकल ने मेरे मुँह में दे दिया.

जैसे ही अंकल का लंड खड़ा हुआ, वो मुझे कुतिया बनने को बोले. मैं झट से डॉगी बन गई. अंकल मेरी गांड पर ज़ोर ज़ोर से चपत मारने लगे. मुझे उनके चांटों से बहुत दर्द हो रहा था. उन्होंने चांटे मार मार कर मेरी गांड लाल कर दी. साथ मेरे मम्मों को भी ज़ोर ज़ोर से मसल कर एकदम लाल कर दिया.

उसके बाद मुझे कुतिया पोज में मेरे पीछे से लंड फिट किया और मेरे मम्मों को दबाते हुए मेरी चुत में लंड ज़ोर से अन्दर तक पेल दिया. उनके हब्शी लंड से मुझे एकदम से दर्द हुआ और मैं रोने लगी.

पर वो नहीं माने और ज़ोर ज़ोर से मेरी चुदाई करने लगे. कुछ देर बाद मुझे भी मजा आने लगा था. मैं खुद अपनी गांड हिलाते हुए उनका लंड अन्दर तक लेने लगी.

इस तरह रात में सीता के ससुर जी ने 9 बार मेरी चुत की चुदाई की. सारी रात सेक्स का मजा लेने के बाद हम दोनों सुबह 7 बजे सोए. फिर अंकल तो सुबह सात बजे ही उठ कर चले गए थे. पर मैं 11 बजे जाग सकी.

मैंने दिन देखा, तो सीता के कई मिस कॉल पड़े थे. मैंने फोन उठाया ही था कि उसका फोन फिर से आ गया.

उसने मुझे बोला- यार, बाबू जी को लेकर साथ में नहा ले.
मैं बोली- ओके.

फिर सीता के ससुर जी भी आ गए.

वो बोले- मैं नहाने जा रहा था, फिर सोचा तुमको जगा दूं.
तो मैं बोली- ओके अभी आप यहीं रुको, हम दोनों साथ में नहाते हैं.

वो भी मान गए. हम दोनों वॉशरूम में साथ में घुस गए.

रात की चुदाई और अंकल के चांटों के कारण मेरी गांड और मम्मे अब तक लाल थे.

नहाते हुए सीता के ससुर जी बोले- अनु मजा आया?
मैं उनको चूमते हुए बोली- बहुत मजा आया.
वे बोले- तो आज फिर?
मैं बोली- पति के आने तक आप रोज मेरे साथ ही रहोगे. आप रोज मेरी चुदाई करोगे.
वो हंस कर बोले- अरे इतना पसंद आ गया मेरा लंड … मेरी जान, तुमको मैं हर तरह से चोद कर खुश कर दूंगा.

फिर अंकल मेरे मम्मों को देख कर बोले- मस्त लाल टमाटर लग रहे हैं और आज तो मैं गांड में भी लंड डालूंगा.
मैं बोली- ओके.



हम नहा कर फ्रेश हुए और चाय बना कर पी.

राजेन्द्र अंकल के जाते ही सीता मेरे घर आ गई. वो बोली- वाह यार, आज बहुत खूबसूरत लग रही हो.
मैं मुस्कुरा दी और जो कुछ भी रात में अंकल के साथ हुआ, वो सब उसको बताया.

वो बोली- वाओ मस्त … अब मैं तेरी और बाबू जी की चुदाई देखना चाहती हूँ.
मैं बोली- वो कैसे?
तो वो बोली- दोपहर में.

मुझे कुछ अटपटा सा लगा, तो वह बोली- तू दोपहर में दरवाजा खुला रखना, मैं आ जाऊंगी.

मुझे लगा शायद सीता भी अपने ससुर जी का लंड लेना चाहती होगी, इसलिए वो उनका लंड देखना चाहती है.

दोपहर को अंकल जी मेरे घर फिर से आ गए.
मैंने हंस कर कहा- क्या सब्र नहीं हुआ?
सीता के ससुर बोले- तुम चीज ही ऐसी हो.
ससुर जी को मैंने कहा- अभी सिर्फ किस करना.
ससुर जी- ओके … तुम बाहर का दरवाजा बंद करो, मैं कमरे में जाता हूँ.

मैंने दरवाजा बंद किया, पर अन्दर से सिटकनी नहीं लगाई. हम दोनों कमरे में किस कर रह थे कि सीता आ गई और अपने ससुर जी पर बरस पड़ी.

वो मुझे भी डांटने लगी. मैं स्तब्ध थी और चुप थी. सीता के ससुर जी सीता से माफी मांग रहे थे.
सीता बोली- बाबूजी ठीक है, पर आपको मेरा भी एक काम करना होगा.
वो बोले- क्या?
तब सीता बोली- बाबूजी आपके दोस्त संजय से मुझे चक्कर चलाना है.
वो हैरत से बोले- क्या?
सीता बोली- हां बाबू जी.
वो भी मान गए और बोले- बहू वैसे वो तो मान जाएगा, पर मैं उससे कैसे बोलूं?
सीता बोली- बाबूजी वो जब घर आए, तो आप बस बाहर चले जाना, आगे का काम मैं सम्भाल लूंगी.
वो बोले- ठीक है.

फिर सीता मेरे बाजू में आकर बोली- पांव लागूं सासू माँ.
राजेन्द्र जी भी मुस्कुरा दिए.
सीता बोली- ओके बाबू जी, वैसे मेरी सीमा का टेस्ट कैसा है?
तो वो बोले- मस्त है.

मैंने अंकल से कहा- आप रात को आ जाना.
वो- ओके रात में आता हूँ.

अंकल चले गए. सीता भी नहीं रुकी, वो भी चली गई.

वो दोनों रात का बोल कर चले गए थे. फिर सीता अपने ससुर से भी खुल कर बातें करने लगी. ससुर से सीता की मीटिंग संजय से करा दी थी.

सीता ने संजय से चार दिन में ही सैटिंग कर ली.संजय से सैट होते ही उसने पहले मुझे बताया. फिर अपने ससुर जी को भी बताया.

अब तक मेरे मम्मों और चुत के मज़े ले रहे ससुर जी बोले- साली मेरी बहू तो मुझसे भी ज़्यादा तेज निकली. संजय को सैट लिया.

फिर संजय और सीता की चुदाई का प्रोग्राम भी मेरे ही घर होना तय हुआ.

इसके लिए सीता के ससुर जी ने अपने बेटे को कुछ काम से 2 दिन के लिए बुआ के घर भेज दिया. ये बात संजय को सीता पहले ही बता चुकी थी कि उसका पति बाहर जाने वाला है.

वो उस रात मेरे घर सोने के लिए आने वाली थी. इसलिए उसने संजय से कह दिया कि तुम रात को वहीं आ जाना.

वो रात में अकेली आई. मैं सीता से बोली- अकेली आई हो, तुम्हारा ठोकू किधर है? मुझे क्या करना है?
वो बोली- हां यार, वो आने वाला है. आज की रात बस तुम मेरे घर चली जाओ. ससुर जी से मज़े कर लो.

उतनी देर में संजय भी मेरे घर आ गए. वो मुझसे बोले- तुम किधर पर सोने वाली हो?
मैं बोली- यहां हॉल में.

वो लोग मेरे बेडरूम में चले गए.

उस रात में सोई नहीं. अनिषा अपनी सीमा सीता और संजय की चुदाई की आवाजें सुनने लगी.
सीता बोली- जरा धीरे बोलो, बाहर मेरी सीमा है.
वो बोले- अभी तो कुछ भी नहीं किया.

वो सीता को किस करने लगे और वे दोनों बेड पर एक दूसरे के कपड़े उतारने लगे.

संजय सीता की चुत में उंगली करने लगे.
सीता बोली- बाबूजी को पता नहीं चलना चाहिए.
वो बोले- नहीं मेरी जान.

वो सीता को किस करने लगे. मैं बाहर से सब देख रही थी. बेडरूम का दरवाजा खुला था. उनकी चुदाई देख कर मेरी भी चुत में खुजली होने लगी.

सीता संजय का 7 इंच का मोटा लंड हाथ में लेकर सहलाने लगी. संजय भी सीता की चुत में उंगली करने लगे.

कुछ देर बाद दोनों की चुदाई शुरू हो गई. करीब 15 मिनट तक चुदाई चली. उसके बाद वे दोनों झड़ गए और वैसे ही नंगे लेट गए.

मैं भी अपनी चूत में उंगली करके सो गयी. उस रात सीता के ससुर मेरा इंतजार करते रहे, उनकी मज़बूरी थी. संजय के चलते वो मेरे घर नहीं आ पा रहे थे. अपना मोबाइल भी मैंने ऑफ़ कर रखा था.
इस वजह से दूसरे दिन सुबह से ही मुझे सीता के ससुर के लंड का शिकार बनना पड़ा. उस दिन अंकल ने दवा खा कर मुझे लगातार एक घंटे तक चोदा, मेरी चूत अंकल के हाथ भर के लौड़े से चुद चुद करके सूज गई थी. उनके जाने के बाद मैंने एक घंटे तक गरम पानी से चूत की सिकाई की. वो तो गनीमत रही कि अंकल ने मेरी गांड नहीं मारी.

उस रात संजय ने सीता को 3 बार जम कर चोदा था. वो कैसी चुदाई हुई, ये जब सीता मुझे बताएगी.

तब तक के लिए विदा. कहानी पढ़ने के लिए आप सभी का धन्यवाद
https://www.youtube.com/watch?v=lvwNQtODaCI&t=3s
सीमा के ससुर ने मेरी चुदाई की सीमा के ससुर ने मेरी चुदाई की Reviewed by Robert on September 10, 2019 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.